Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बहुरुपिया
बहुरुपिया
★★★★★

© Phanishwar Nath Renu

Inspirational

1 Minutes   152    6


Content Ranking

दुनिया दूषती है 

हँसती है 

उँगलियाँ उठा कहती है ... 

कहकहे कसती है - 

राम रे राम! 

क्या पहरावा है 

क्या चाल-ढाल 

सबड़-झबड़ 

आल-जाल-बाल 

हाल में लिया है भेख? 

जटा या केश? 

जनाना-ना-मर्दाना 

या जन ....... 

अ... खा... हा... हा.. ही.. ही... 

मर्द रे मर्द 

दूषती है दुनिया 

मानो दुनिया मेरी बीवी 

हो-पहरावे-ओढ़ावे 

चाल-ढाल 

उसकी रुचि, पसंद के अनुसार 

या रुचि का 

सजाया-सँवारा पुतुल मात्र, 

मैं 

मेरा पुरुष 

बहुरूपिया।

दुनिया पहनावा सोच आज़ादी

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..