Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
पानी की बूंद
पानी की बूंद
★★★★★

© नवल पाल प्रभाकर दिनकर

Drama

1 Minutes   12.9K    5


Content Ranking

हाँ मैं मानता हूँ

देखने में मेरी हस्ती

क्या है कुछ भी नही

आग पर गिरूं

जलकर भाप बन उडूं

धरा पर गिरूं

हर प्यासा रोम

अपने अंदर मुझे सोख ले

जो गिरूं किसी ताल में

लहरों में बिखर-बिखर

छम-छम कर लहरा उठूं

इतना कुछ होने पर भी

मेरा एक अलग नाम है

मेरी एक अलग पहचान है।

वर्षों पुरानी मेरी दास्तान है

जो आज यहाँ पर बयान है।

जब तपती है धरा तो

टकटकी बांधकर लोग मुझे

नीले साफ आसमान में

बस मुझे ही हैं ढूंढते

तब मैं काले सफेद मेघ बन

उडेलता हूँ छाज भरकर

दानों रूपी बूंदों को

जो पेड-पौधे ओर उनकी जडों को

सींचता हुआ चला जाता है।

जब मानव परेशान होकर

बैठ जाता है तब उसकी आँखों में

मैं उमड पड़ता हूँ।

कल-कल करता जब बहता हूँ

तब मेरा रूप सुन्दर हो जाता है।

ओर जब इकट्ठा होकर बहता हूँ कहीं

अपने अंदर समेट कर सब कुछ

बह निकलता हूँ।

Water Drops Life

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..