Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
दुखियारी माँ !
दुखियारी माँ !
★★★★★

© Ajay Tripathi

Others

1 Minutes   7.0K    4


Content Ranking

मुझे ये सुगबुगाहट थी पर मंज़र ने यक़ीं दिला दिया
ख़ून बेशक़ सबका लाल था पर माँ का लाल न था
अब होती हैं सिर्फ़ सियासतेंं भारी माँ के नाम पे
माँ का दिल वही रहा पर बेटे की नज़र बदल गई
कौन माँ, किसकी माँ, कैसी माँ ! क्यों माँ की जय
की मैं बड़ा हो गया, सूट-बूट, तू रह दुखियारी माँ

माँ माँ का प्यार माँ और बच्चे

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..