Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ग़ज़ल
ग़ज़ल
★★★★★

© Sharad Tailang

Others

1 Minutes   7.0K    6


Content Ranking

जो अलमारी में हम अख़बार के नीचे छुपाते हैं

तो वो ही चन्द पैसे मुश्किलों में काम आते हैं ।

 

कभी आँखों से अश्कों का ख़ज़ाना कम नहीं होता

तभी तो हर ख़ुशी हर ग़म में हम उसको लुटाते हैं ।

 

दुआयें दी हैं चोरों को हमेशा दो किवाड़ों ने

कि जिनके डर से ही सब उनको आपस में मिलाते हैं ।

 

मैं अपने गाँव से जब शहर की जानिब निकलता हूँ

तो खेतों में खड़े पौधे इशारों से बुलाते हैं ।

 

ख़ुदा हर घर में रहता है वो हमको प्यार देता है

मगर हम उसको अपने घर में माँ कहकर बुलाते हैं ।

 

'शरद' ग़ज़लों में जब भी मुल्क़ की तारीफ़ करता है

तो बेघर और मुफ़लिस लोग सुनकर मुस्कुराते हैं ।

ग़ज़ल - जो अलमारी में हम अख़बार के नीचे छुपाते हैं

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..