Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ऐ  साकी
ऐ साकी
★★★★★

© Jigisha Raj

Others

1 Minutes   6.9K    4


Content Ranking

 

इंतज़ार में जिसके चली गई जिन्दगी आधी;

वो आये और हमें खबर भी न हुई साकी।

 

रोज जिसकी आहट पे हम सो न सके रात भर;

सुबह जब हुई हमें होश ही न रहा साकी।

 

एक तो थी तनहाई साथ निभाती जिंदगी भर;

पहलू में अब मेरा साया भी न रहा साकी।

 

सूफियाना सी बंदगी है और दुआएं उम्रभर;

कोशिश करके भी जाम ख़ाली न रहा साकी।

 

हम अपनी वफाओं के साथ जिए है 'गिनी' बेखबर;

उनकी राहों में फना होने का अब डर न रहा साकी।

 

सूफियाना सी बंदगी है और दुआएं उम्रभ ; कोशिश करके भी जाम ख़ाली ना रहा साकी।

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..