Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
कभी यूँ भी  होता
कभी यूँ भी होता
★★★★★

© Manish Pandey

Drama Inspirational

2 Minutes   7.0K    6


Content Ranking

कभी यूँ भी होता कि
मैं गुज़रे वक़्त में जाकर
किसी कोठे में
देखता मुज़रा सुनता ग़ज़ल
छलकाता जाम उछालता अशर्फियाँ
तवायफ के सुर्ख लाल होंठों से
सुलगाता हुक्के का तम्बाकू
भर के हरेक कश फूंक डालता
अपने जिस्म की आग को।

या कभी यूँ भी होता कि
किसी गली, चौराहे या बस स्टॉप पर
खड़े होकर घंटों देखता रहता
आती जाती चाँद सी परियों को 
उनको घूरता फब्तियां कसता और 
पीछा करता उनके सहमे कदमों का 
ढूंढ लेता पता अपने ठिकाने का....

या कभी यूँ भी होता कि
शहर के लाल चौक पर जाकर
इकट्ठा हुई भीड़ में चीखकर
देता अश्लील गालियां फेंकता पत्थर 
कुचलता मासूम चप्पलें फूंकता दुकानें
जलाता गाड़ियाँ भोंकता चाकू और
लाशों की खुली आँखों में देख पाता
भीतर के शैतान को।

या कभी यूँ भी होता कि
निकल पड़ता नंगे पैर खाली ज़ेब
छानता सड़क की गर्म गर्म धूल
सुखाता लहू गलाता हड्डियाँ
मिलाकर नज़र आसमां से 
चुनौती देता मौत को और 
हो जाता मौत के बहुत करीब।

मगर अब जब ऐसा कुछ कभी नहीं हुआ और
मैं आज भी रोज़ उठता हूँ सवेरे
निकलता हूँ कमाने खुशियाँ
लौटता हूँ बेचकर अपनी ख्वाहिशें
तब दिन भर की झूठी हंसी हंसने से थककर
बदलता रहता हूँ करवटें सिर्फ इस उम्मीद में 
कि काश आ जाएँ कुछ ऐसे सपने 
जिनमें कुछ देर के लिए ही सही
सब कुछ मेरी जिंदगी, मेरी हंसी 
मेरे आँसू की तरह बनावटी न हो......

 

 

 

 

 

#ज़िंदगी क्या है कुछ #ख्याल कुछ #हक़ीकत कुछ #ख्वाहिशें #और कुछ भी नहीं

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..