Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
आत्मपरिचय
आत्मपरिचय
★★★★★

© Shailaja Bhattad

Drama Inspirational

1 Minutes   7.1K    8


Content Ranking

कस्तूरी मृग की भाँति

तेरे अंदर नीहित हूँ मैं।

देती हूँ बार-बार दस्तक

सोच कभी तो आवाज आएगी।

कभी तो होगा मुझसे मिलन तेरा।

पर अफसोस ! आवाज़ तो दूर आहट भी न आई।

आहट तो दूर चेतना भी न जागी।

कैसे कराऊँ मिलन तेरा मुझसे।

सोच-सोच मुरझा गई।

मैं और कोई नहीं ।

तेरा परिचय हूँ और सिर्फ आत्मपरिचय...।

Conscience Life Lessons

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..