By

     



Content Ranking

null

  :

Leave a Comment

Kulvindra Saini
3 months ago

nice...

3 months ago

nice...


hemant kumar
2 years ago

प्रीति जी की एक बहुत ही सार्थक और समाज का आईना दिखाने वाली रचना।कवयित्री ने बीजों के माध्यम से जिन स्थितियों की कल्पना की है--काश वैसी सोच हर आम जन में पैदा हो सके।बहुत प्रभावशाली रचना।

2 years ago

प्रीति जी की एक बहुत ही सार्थक और समाज का आईना दिखाने वाली रचना।कवयित्री ने बीजों के माध्यम से जिन स्थितियों की कल्पना की है--काश वैसी सोच हर आम जन में पैदा हो सके।बहुत प्रभावशाली रचना।