लैला मजनू

लैला मजनू

1 min 230 1 min 230

कह रहे हैं लोग इश्क को जुर्म

और कहा की इन्साफ़ भी करो यारों

बता रहे थे कि ग़लती दोनों की है

इसलिए लैला को भी पत्थर मारो

अरे! शानो शौकत की महरानी लैला

जो एक राज घराने में पलती थी

ये वहीं लैला है यारों जो बचपन में

मजनू के साथ ही पढ़ती थी


ये दौर शुरू हुआ वही जब

लैला भी एक दीवानी बनी

बदनाम किया खुद को लैला ने

तो ये लैला मजनू की कहानी बनी

अरे लैला इतनी कमजोर नहीं 

ना यूँ सरे आम इल्जाम डालो

वो कहती रही ना मारो दीवाने को

मारना है तो भले मुझे ही मारो


पत्थर मार रही थी दुनिया तो

इस लैला ने ही उसे बचाया था

शर्त रखी मजनू को छोड़ने की

और एक गैर से शादी रचाया था

क्यों इल्जाम लगाते हो लैला पर

इसमें उसका भला क्या दोष हैं

मजनू अगर दीवाना है तो

लैला भी प्यार में मदहोश है

यूँ नहीं दो नाम बने थे एक

ये दो नाम का एक ही ख्याल है

कहानी नहीं सिर्फ ये लैला मजनू

ये तो जीता जागता मिसाल है



Rate this content
Originality
Flow
Language
Cover Design