Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बारफ्ता सी गुज़र गयी कोई यूँ ही
बारफ्ता सी गुज़र गयी कोई यूँ ही
★★★★★

© Jitesh Attry

Romance

1 Minutes   1.3K    6


Content Ranking

बारफ्ता - सी गुज़र गयी कोई यूँ ही

क़ि निग़ाहें उठी पर परछाईं तक दिखाई न दी।

वो हवा का झोंका था या थी किसी दीवाने की चाहत,

पाज़ेब तो बजी पर आहट तक सुनाई न दी।

बारफ्ता सी गुज़र गयी कोई यूँ ही

दिल तो धड़का पर धड़कन तक सुनाई न दी...।

Shayari Anklets Love Heartbeat

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..