Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
इस दौर का चेहरा
इस दौर का चेहरा
★★★★★

© Anupam Tripathi

Others Comedy

1 Minutes   6.8K    8


Content Ranking

इस दौर का चेहरा

जन ने करके लाख जतन जनतंत्र बुना।
प्रौढ़ हुआ - गूँगा हुआ - बहरा हुआ है।।

 

इस तरह इस दौर का चेहरा हुआ है।
आदमी : शतरंज का मोहरा हुआ है।।

कल तलक थी ज़िन्दगी मुस्कान माना।
ढो रहा अब आदमी दोहरा हुआ है।।

देश; वोटों की "बिना" पर बँट चुका अब।
धर्म था अंधा कुआँ -- गहरा हुआ है।।

हादसा कल हो चुका अब है मातम।
हाय मुस्तैदी ! कडा़ पहरा हुआ है।।

जन ने करके लाख जतन जनतंत्र बुना।
प्रौढ़ हुआ - गूँगा हुआ - बहरा हुआ है।।

क़द बराबर बढ़ रहा बे-ईमान का।
सहमा-सहमा सच वहीं ठहरा हुआ है।।

है अजब ये रीत "अनुपम " आज के इस दौर की।
शख़्स हरइक आईना और आईना : चेहरा हुआ है।।
******-------**********

anupam tripathi poem poetry democracy loktantra hindi

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..