क्या तुझे भी ऐसा ही सूझता है

क्या तुझे भी ऐसा ही सूझता है

1 min 223 1 min 223

जानता हूँ तू मेरी और मैं सिर्फ तेरा हूँ

तू खजाना है प्यार का और मैं एक लुटेरा हूँ

पागल सा दिल है ना कुछ जानता ना बूझता है

देखूँ जब भी तुझे बस शरारत ही सूझता है

तेरी पतली कमर पर फिर रहा मेरा हाथ हो

तेरे और मेरे लब एक दूजे के साथ हो

हो मौसम जाड़े का और मैं तुझे पकड़े रखूं

तू कांपती रहे और मैं तुझे बाहों में जकड़े रखूं

जैसे दो दिलों के एक होने का आभास हो

हो इतने करीब की धड़कनों का भी एहसास हो

खुलीं खुलीं जुल्फें तेरी मेरे चेहरे पर बिखर जाए

तू साथ रहें जब भी तो मुस्कुराहटों से निखर जाए

रातें जो भी बीतें बस शरारतों में ही गुजर जाए

और मेरे छूने मात्र से ही तू मचल जाए

तड़पते हैं अब ज्यादा इंतजार नहीं होता है

कैसे गुजारें जब महीना सावन का होता है

ये आवारा सा दिल तुझसे भी यही पूछता है

क्या तुझे भी मेरे जैसा ही कुछ कुछ सूझता है।


Rate this content
Originality
Flow
Language
Cover Design