Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
कमबख़्त इश्क़
कमबख़्त इश्क़
★★★★★

© Vishal Ajmera

Others

1 Minutes   6.7K    8


Content Ranking

बेपरवाह न हम थे

ख़ुदगर्ज़ न तुम थे।

 

दिल में जज़्बात थे मेरे

आँखों में सपने थे तेरे ।

 

मेरी रज़ामंदी थी

तुम्हारी न कोई पाबंदी थी ।

 

इश्क़ जुनून था मेरा

प्यार था तुम्हारा रैन बसेरा ।

 

बेवफाई न हमसे हुई

सहन जुदाई न तुमसे हुई ।

 

बेपरवाह न हम थे

ख़ुदगर्ज़ न तुम थे।

#Lovelife #MysteriousLove #EmotionsInLove #LoveKills

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..