Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ए मेरी ज़िन्दगी
ए मेरी ज़िन्दगी
★★★★★

© Ishwar Gurjar

Drama Others

1 Minutes   13.5K    3


Content Ranking

पीछवाड़े के नीम की झुकी टहनियों-सी

कच्चें घरों की सुनी पड़ी देहलियों-सी

सिसकती रातों में हिचकियों-सी

ऐ ज़िन्दगी मेरी, तुम कैसी हो री?

तुम हो ख्वाबों में नींद प्रियसी जैसी

तुम हो रातों में गहरी चाँदनी जैसी

तुम दर्द के सीने की गर्म साँस-सी हो

तुम सदियों से दबे गहरे राज़-सी हो

तुम हो मौत के माथे पर ज़ुल्फ़ जैसी

तुम हो बँटे हुए, मेरे मुल्क जैसी

ऐ ज़िन्दगी मेरी तुम कैसी हो री?

ज़िन्दगी प्रियसी हिंदी

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..