Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
शोर ए दिल
शोर ए दिल
★★★★★

© Shashi Mehra

Abstract

1 Minutes   1.2K    9


Content Ranking

क्या पता था, मोज़जा हो जायेगा ।

एक रहजन, देवता हो जाएगा ।।

बात उसको भी समझ आ जायेगी ।

हल पुराना, मस'अला हो जायेगा ।।

उससे है उम्मीद, कि वो बिन सुने ।

हद से कुछ ज्यादा, खफ़ा हो जायेगा ।।

उसके बारे, कोई कुछ कहता नहीं ।

कौन जाने, कब वो क्या, हो जायेगा ।।

आप उस से, फासला रख करें ।

पास जाना ही ख़ता हो जायेगा ।।

देख के उसको, यकीं आता नहीं ।

ऐसा चेहरा बेवफा हो जायेगा ।।

वो 'शशि' के साथ, ग़र कुछ दिन रहे ।

उसका लहजा दूसरा हो जायेग ।।

देवता लहज़ा फ़ासला

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..