Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
जीत गऐ हैं बच्चे
जीत गऐ हैं बच्चे
★★★★★

© Pratap Somvanshi

Others

2 Minutes   7.0K    3


Content Ranking

 

पलक झपकते ही बड़े हो गऐ हैं ये बच्चे
कुछ देर पहले तक जो बालू में खेल रहे थे
इस समय उन्हीं बच्चों की टोली 
नदी के भीतर लहरों से जूझ रही है
एक डूबते हुऐ आदमी को बचाने की ज़द्दोज़हद जारी है
बच्चे बड़ों से भी कई गुना बड़े नज़र आ रहे हैं
लहरें एक बार फिर हार गईं है
जीत गऐ हैं बच्चे 
यमराज के हाथ से छीन लाऐ हैं एक ज़िन्दगी
मैले-कुचैले कपड़ों और पानी से चिपके बालों वाले
ये बच्चे गंदगी की पहचान नहीं
सभ्यता के वाहक नज़र आ रहे हैं
जो अपने सामने किसी को मरता हुआ नहीं देख सकते
इन अनपढ़ बच्चों को समझ नहीं आती शुक्रिया की भाषा
अपने किऐ के एवज में नहीं माँगते वीरता के पदक
न ही जिसे बचाया है उससे विजिटिंग कार्ड और पता
कि कभी हारे-गाढ़े अपने पुण्य के एवज में कुछ पाने को सोचेंं
बेहोश आदमी की बोली लौटने पर हँस पड़ते हैं सब एक साथ
एक सुख सबके हिस्से में बराबर-बराबर बँट जाता है
हाँ, ये पढ़ लेते हैं सामने वाले की आँख में कृतज्ञता का भाव
इसमें पीढ़ियों का अनुभव काम आता है
मरने वाले रोज़ चेहरे बदल-बदल कर आते हैं इन घाटों पर
बचाने वालों का कुछ नहीं बदला, न वे न उनके हालात
उम्र के साथ बदलती हैं सिर्फ़ उनकी पीढ़ियाँ
कल इनके पिता थे यहाँ इन घाटों पर 
आज ये विरासत सँभाल रहे हैं
कल आऐंगे इनके बच्चे फिर बच्चों के बच्चे
सबके हिस्से होंगे पचास-सौ किस्से
लहरों को परास्त करने, मौत को मुँह चिढ़ाने 
और ज़िन्दगी पर जीत दर्ज़ करने के।
 
-प्रताप सोमवंशी

Children Fighter River Sons Real Victory

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..