Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
पत्थर
पत्थर
★★★★★

© anjani srivastav

Abstract

1 Minutes   14.0K    12


Content Ranking


पत्थर चाहे खदानों से निकले

या पत्थरबाजों की बस्तियों से

पत्थर स्वाभाविक रूप से

सख़्त ही होते हैं

सारे पत्थर सपाट नहीं होते

कुछ तो बड़े ही नुकीले होते हैं

जिनको लगते हैं

उनके दर्द का अंदाजा उनके अलावा

और कोई नहीं लगा सकता

“ईंट का जवाब पत्थर से

पत्थर का गोलियों से

और गोलियों का परमाणु बमों से “

पूरा विश्व इसी एक फलसफे पर

अपने विकास के यान उड़ा रहा है

चींटियां हाथी को नहीं दिखतीं

मगर चींटियों का अट्टहास

हाथी के कानों के परदे फाड़ देता है

नफरतों का प्रदर्शन अपने

धार्मिक प्रवचनों से तथा

अपनी मानसिक विकृतियों

की अभिव्यक्ति ट्विटर, व्हाट्सऐप

और फेसबुक के माध्यम से

करके हम अपनी जीवंतता

का नहीं बल्कि

मुर्देपन का ही परिचय देते हैं

कथनी और करनी में मेल

नहीं होने से हम

असंतुलित होकर डगमगाने लगते हैं

अनिश्चितता और अविश्वास पूरे कुटुंब के साथ

हमारे जीवन के भू-भाग पर फ़ैल जाते

और हम मालिक से सीधे मुहाफिज हो जाते हैं

फ़ैल नफ़रत फ़लसफ़ा

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..