Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ये कहाँ आ गये
ये कहाँ आ गये
★★★★★

© Jagdish Pandey

Others

1 Minutes   20.4K    2


Content Ranking

 

समय के चलते चलते
हालात बदलते बदलते
ये कहाँ आ गये हम

शाम यूँ ढलते ढलते
गई कुछ कहते कहते
छा गये कहाँ से इतने गम

वक़्त कल अजीब था
माना कि तू गरीब था
पर ख़ुशियाँ न थी तेरे कम

वक़्त जो छूट गया
कोई क्यूँ रूठ गया
हो गई क्यूँ आँखें आज नम
समय के चलते चलते
हालात बदलते बदलते
ये कहाँ आ गये हम

जगदीश पांडेय " दीश

 

हम hindi

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..