Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मेरे महबूब
मेरे महबूब
★★★★★

© Shelly Kiran

Fantasy

1 Minutes   13.8K    7


Content Ranking

बहुत खूबसूरत है यह पहाड़,                                           मेरे देश का हर रंग है यहाँ,
बाँस की हँस कर दोहरी होती टहनियाँ,
जब बाँसुरी बन सजती हैं,
कहती हैं व्यथा बिछोह की,
किसी गडरिये के होठों पर बैठकर,
दर्द की लहरियों से गूँज उठता है वन,
झरना भी, दौड़ने लगता है तेज़,
गाते हुए तन्हाई का गीत,
तय करना चाहता है, दौड़ कर,
बुराँस के जंगल,
दूर निकलना चाहता है,
कोयल की कूक,
पपीहे की धुन,
कठफोड़वे की टुकर-टुकर से,
चम्पा की महक से,
ठहर जाता है,
किसी झील से मिलकर,
मधुमक्खियां नृत्य करती हैं,
फूलों की क्यारियों में,
उनके पँखो का गुँजन मधुर है,
कई पाँजेबो से,
उसमें बँधन की खनक नहीं,
बॅाटल ब्रश पर मँडराते, हमिंग बर्ड
मेरी आँखों से देख सको तो,
देख सको मोरों का नृत्य,
सुन सको उनका कलरव,
जँगली मुर्गे का बाँग देकर मुझे उठाना,
शहतूत की शाखों का राह में लचक जाना,
अंजीर का पकना,
कैक्टस के फूल आना
बहुत कुछ जो मैं कह ना पाऊँ,
शब्द से परे महसूस करना!
तुम्हारी दुनिया से अलग मेरी दुनिया,
कितना लाज़िमी है,
उनके एक होने से डरना!

मेरे महबूब

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..