Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
वो हमसफ़र तो था , पर उससे हमनवाई न थी
वो हमसफ़र तो था , पर उससे हमनवाई न थी
★★★★★

© Nikhil Sharma

Others

2 Minutes   13.8K    3


Content Ranking

वो हमसफ़र तो था , पर उससे हमनवाई न थी

हम चले एक साथ थे , मंज़िल भी बनाई साथ थी । 
एक बिस्तर पर , एक छत के नीचे कटती दोनों रात थी ॥ 
पास हो कर भी, दोनों के दरमियाँ ख़ामोशी की बिसात थी । 
इक दूजे को न कुछ कहने को था , न सुनाने को कोई बात थी ॥ 
वो संग तो था मेरे , पर फिर भी नज़दीकी कभी आई न थी । 
वो हमसफ़र तो था , पर उससे हमनवाई न थी.॥

न कभी सुकून था , न ही ऐतबार था इक दूजे पर । 
एक कश्मकश थी दोनों के बीच , पर प्यार से सवाल कौन पूछे पर ??
बातों में न ख़ुशी की झलक थी , न अपनेपन की तपिश ही थी । 
सवाल भी नहीं थे , और न किसी जवाब की खलिश ही थी ॥ 
वक़्त तो कट रहा था , पर कभी ज़िन्दगी मुस्कुराई न थी । 
वो हमसफ़र तो था , पर उससे हमनवाई न थी.॥

ऐसा नहीं था कि बेवफाई का आलम था । 
फ़िक्र भी थी , और रिश्ता भी कायम था ॥ 
पर सिर्फ ज़िम्मेदारी के अलावा और कोई दुहाई न थी । 
हमदर्दी थी , पर ख़ुशी की परवाह न थी ॥ 
दुनिया के लिए संग थे हम , पर साँसे कभी मिल पाई न थी । 
वो हमसफ़र तो था , पर उससे हमनवाई न थी.॥ 
वो हमसफ़र तो था , पर उससे हमनवाई न थी.॥ 

 

#हम चले एक साथ थे मंज़िल भी बनाई साथ थी । एक बिस्तर पर एक छत के नीचे कटती दोनों रात थी ॥

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..