Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
सुबह की सिहरन
सुबह की सिहरन
★★★★★

© Arpan Kumar

Others

1 Minutes   6.5K    3


Content Ranking

 

गई रात देर तक जागती आँखें

ख़ुद से अधिक मुझ पर तरस खा रही थीं

खुलना चाह रही थीं पर

मेरा ख़्याल कर बंद थीं और

अलसाई पड़ी थीं

सुबह हो चुकी थी

मगर मैं अपने कमरे में सोया था

ख़ैर!

सुबह की सुबह कब की हो चुकी थी

और उसकी रंगत की आहट

क्रमशः मेरे कमरे में भी

आनी शुरू हो रही थी

अलसाई आँखों ने दुनिया देखनी चाही

और मैं उन्हें मना न कर सका

मैं आँखें मलता हुआ दरवाजे की ओर बढ़ा

देखा

सूर्य अपनी सुनहली किरणों के साथ

मेरे स्वागत में खड़ा है

अपनी रक्तिम मुस्कान से मुझे अरुण

किए जा रहा है

एकदम से

मेरी तबीयत में उछाल आ गया

और यह क्या

एक सूर्य के अस्तित्व की कौन कहे,

मेरे शरीर का रोम-रोम

एक स्वतंत्र सूर्य बन गया

एक तरफ

इनके ताप से जलता रहा

दूसरी तरफ़

अपने ऐसे वजूद से

मैं स्वयं सिहरता रहा

सिहरता रहा|

..............

 

प्रकृति और मनुष्य के बीच गत्यात्मक संबंध की कविता।

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..