Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मुर्गी पर बरगद का पेड़
मुर्गी पर बरगद का पेड़
★★★★★

© Shashipal Sharma

Comedy Drama

1 Minutes   7.0K    9


Content Ranking

आज की कविता बीज खा गई


बरगद का मुर्गी कोई।


खाद मिला पानी पीकर


फिर नीम तले जाकर सोई।।


कुछ दिन पीछे उगा पीठ पर


पेड़ बड़ा पत्ते हिलते।


धूप सताती थी तब जिनको


साथ उसी के थे चलते।।


लगी फैलने तब शाखाएँ


मोटी-मोटी और भरी-भरी।


इक शाखा पँहुची दिल्ली में


दूजी पँहुची पटना नगरी।।


सावन का जब मौसम आया


बच्चों ने बाँध लिए झूले।


इक झूला, झूला दिल्ली में


पटना में भी बच्चे झूले।।


तब सहसा मुर्गी घूम गई


दाएँ को बायाँ कर डाला।


बच्चों के नगर बदल डाले


कर दिया बड़ा गड़बड़-झाला।।


पटना के बच्चे दिल्ली में


दिल्ली के बच्चे पटना में।


माँ-बाप ढूँढ़ते बच्चों को


व्याकुल होकर इस घटना में।।




बच्चे रोते-चिल्लाते हैं


दुख-दर्द भरे दीवाने हैं।


तुम कहाँ गए मइया-बाबा


सब लोग यहाँ बेगाने हैं ।।


जब हाहाकार मचा भारी


धरती डोली आकाश हिला।


ऊपर देखा बेबस होकर


तब जाकर उत्तर एक मिला।।




सुन ‛बालमित्र’ लाचार सभी


बेबसी नज़र बस आती है।


यह रोज़ी-रोटी की मुर्गी


लाखों को रोज़ घुमाती है।

Satire Life Humor

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..