Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
जद्दोज़हद
जद्दोज़हद
★★★★★

© Manjeet Manjeet

Others

1 Minutes   1.4K    6


Content Ranking

वो काली अँधेरी
जेल सी कोठरी
सूक्ष्म जीव
इत्मीनान से
पर यहां भी
जीवन की जद्दोज़हद जारी
नहीं सुनी किसी ने
हिचकियां
चैन लेने न दिया
दुश्मनों
किया प्रहार
मिलकर नश्तरों
वह ऊपर कभी नीचे
वह दायें तो बायें
चीखी-चिल्लाई, भागी औ दौड़ी
पर नहीं काम आई
सिसकियां
बेबस सी जान
टुकड़े-टुकड़े हो
तजे थे प्राण
जीवन से पहले
गिरी बिजलियां
ये कैसा मुक्कदर
बनाया विधाता
गर बदलता तू
मेरी पहचान
वो करते सभी
स्वागत-सम्मान
हसरतों के ताल में
तैरतीं मछलियाँ।



2. वज़ूद

हाथों कंगन
पैरों पायल ,बिछुए
कमर कटिबंध
नाक में नथनी
सर पर झूमर
गले में हार
पूरा सोलह सिंगार
मेरे हर अंग को
सजाया-संवारा
मेरी सोच को
इनका बन्धक बनाया
मेरी सुंदरता पर
नई-नई उपमाएं दीं
गर्दन सुराही
होंठ गुलाब पँखुड़ी
नागिन सी चाल
मृग-नयनी
झील तो कभी
समन्दर बताया
यानी जीती जागती
सजावट की मूर्ति
पर इन आँखों में
पलने वाले ख़्वाब
कब और किसने देखे
मेरे वजूद को
कब समझ पाया
ये पुरुष समाज।

जद्दोज़हद

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..