Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ग़ज़ल – होता गया
ग़ज़ल – होता गया
★★★★★

© Dilip Ghasvala

Tragedy Inspirational

1 Minutes   6.9K    2


Content Ranking

सबकी सुनकर मैं परेशां और भी होता गया,

याद कर गुज़रा ज़माना और भी रोता गया | 

पाँव थककर चूर थे और रास्ते बेनूर थे,

मंजिलें मकसूद की मानिब मगर बढ़ता गया | 

है बहुत छोटा सा जीवन फूल को मालूम है,

फिर भी नादां बाग में हर रोज़ वो खिलता गया | 

“ हाल है कैसा तुम्हारा " उसने पूछा एक दिन,

सुनता रहा वो कान देकर और मैं कहता गया |

 

राह चलते जो मिले सभी हमसफर होते नहीं,

फिर ना जाने हाथ किसका थामकर चलता गया |

 

चंद दिन बस साथ रहकर दाग़ जो तुमने दिए,

आंसुओं को गंगा समझ उस दाग़ को धोता गया | 

मेरी आहें दिल में दब कर एक दिन ज्वाला बनी,

साँस लेते लेते उसमें रात दिन जलता गया | 

 

सब से रिश्ते तोड़कर मैं पास अपने आ गया,

कौन सी उम्मीद में ये दर्दों-गम सहता गया |

गंगाजल दर्द फूल

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..