Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ग़ज़ल
ग़ज़ल
★★★★★

© Rominder Thethi

Drama

1 Minutes   7.0K    7


Content Ranking

रात भर हम

उलझनों से उलझते रहे

साथ मेरे चिराग़ भी

रात भर जलते रहे


आँखों ही आँखों में

रात कट गई

नींद हमें ना आई

कभी इस तरफ

कभी उस तरफ

करवटें बदलते रहे


खुद से सवाल करके

खुद जवाब ढूँढते हम

किसी उलझन से उलझते

किसी से निकलते रहे


रिश्तों को क़ायम

रखने के लिये सदा

जब लोग ना बदलते

हम खुद को बदलते रहे


ज़िन्दगी तमाम हुई

पर ख्वाहिशों का दौर

चलता रहा

कुछ अरमाँ तो पूरे हुए

कुछ दिल में मचलते रहे...।

Life Dreams Lessons

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..