Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
अरदास
अरदास
★★★★★

© Dr. Razzak Shaikh 'Rahi'

Drama

1 Minutes   6.9K    7


Content Ranking

कैसे करू मैं तुझपे भरोसा,

क्या तेरा विश्वास करू?

विरोधी ध्रुव का चुंबक है तू,

कैसे तुझे अपने पास करू? ||धृ.||


तेरी रग-रग में है फैला

खुराफातों का जहर

विघटनकारी विचारों में

उलझा रहता है तू शामो सहर

उल्टी-सिधी तेरी हरकते,

कैसे मैं बर्दाश्त करू? ||१||


मेलजोल हो सबमें,

ये तुझको खलता रहता है

फूट डालने का विचार,

तेरे मन में चलता रहता है

ना मालिक बनू मैं तेरा,

ना तुझको अपना दास करू ||२||


झूठ पे झूठ बके जाना,

ये तेरी फितरत है

मै जानता हू तुझको मुझसे

कितनी नफरत है

करके तुझसे दोस्ती,

मैं कैसे खुद का उपहास करू? ||३||


तू गौर जरा सा कर बंदे,

संस्कार ही तुझपर है गंदे

खुदकी तरक्की चाहता है तो,

छोड दे सब गोरखधंधे

चाहू मै तेरा भला,

बस इस खातिर अरदास करू ||४||

Prayer Life Paths

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..