Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
सागर की हिलोरें
सागर की हिलोरें
★★★★★

© Rani Kuksal

Comedy

2 Minutes   13.3K    15


Content Ranking

खिड़की के पास बैठकर

सागर की हिलोरों से मुखातिब

विस्फारित नेत्रों से प्रत्यक्ष

ऊर्जा स्रोत को देख कर उन्मादित

चपल मौजों की अठखेलियों से आनंदित

हर चित्र को चित्त में समेटने को प्रलोभित

एकाग्रचित्त निश्चेष्ट भाव से मौजों को निहारकर

शून्य में ताककर खिड़की से झांककर

टकटकी बांधे मौजों की मस्ती से सशंकित

मौजें आतीं नयनों को झंझोड़ती

कभी पक्षियों के परों को सहलाती

कभी शरारती हवा को पकड़ने उसके पीछे भागती

कभी नव-यौवना के केश उड़ाकर अपने

चिर-यौवना होने का अहसास कराती

कभी मोती तो कभी कटुतम राज़ छिपाती

कभी विध्वंसक बन सजा का पात्र बनाती

उसने कभी और वास्कोडिगामा

को गंतव्य तक कोलम्बस को पहुँचते देखा तो

कभी गजनवी द्वारा सोमनाथ को लुटते देखा

इन मौजों ने कभी अमृत को बंटते देखा

तो कभी नीलकंठ को विषधर बनते देखा

कभी प्रलय के आगोश में धरा को समाते देखा

तो कभी सौ बार बिखरकर

धरा को पुन: निखरते देखा

कभी भीष्म की प्रतिज्ञा तो कभी

अर्जुन का तीर देखा

कभी कान्हा की बंसी तो

कभी राधा का धीर देखा

कभी राम का पौरुष तो कभी

कबिरा का पीर देखा

कभी सोनचिराइया का सम्मान देखा

तो कभी कलियुग के काल में

और आतंक के गाल में समाहित

उसी सोनचिराइया का आर्तनाद सुना

चिरकाल से एकांकी जीवन जीकर

इतिहास की गाथा गाती तो

कभी भविष्य को आलिंगनबद्ध

करने को अतुराती इन मौजों में खोई मैं

अब भी सशंकित सम्मोहित विस्फारित

नेत्रों से प्रत्यक्ष ऊर्जा स्त्रोत को देखकर उन्मादित ...

जीवन के सागर का तारतम्य

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..