Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
शोर ए दिल
शोर ए दिल
★★★★★

© Shashi Mehra

Inspirational

1 Minutes   7.2K    9


Content Ranking

नहीं दौलत, पराई चाहता हूँ ।

मैं मेहनत की, कमाई चाहता हूँ ।।

नहीं आसान गो, तस्कीन पाना ।

मुक़द्दर आजमाई, चाहता हूँ ।।

ख्यालों को नई परवाज़ दे के ।

ज़माने तक रसाई चाहता हूँ ।।

सुकूने-दिल की खातिर ही तो सुनना ।

सदा सूफ़ी रुबाई चाहता हूँ ।।

है दिल में हसरते-दीदारे जानां ।

नज़र में परसाई चाहता हूँ ।।

’शशि’’ ने सी लिए लब, सोच कर यह ।

नहीं मैं, जग-हसाई, चाहता हूँ ।।

मेहनत ख़याल हसरतें

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..