Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बेटियाँ
बेटियाँ
★★★★★

© Agnima Singh

Children Drama Inspirational

1 Minutes   7.0K    20


Content Ranking

मुश्किल से आती है,

परियां यहाँ,

फिर भी क्यों,

रहती हैं खामोशियाँ ।


पल-पल करती है,

वो कोशिश यहाँ,

फिर भी क्यों,

हारे वो ही सदा ।


बांटे वो खुशियाँ,

अपनी भी हँस के,

फिर भी नहीं हैं,

सब अपने उसके ।


कर देगी प्रकाश,

अंधेरे में भी वो,

फिर चाहे खुद को,

जलाना भी हो ।


पूरे कुल को,

महका देगी वो,

बस एक बार,

जीने का मौका तो दो ।

Poem Daughter Life

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..