Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
पलकों में इन्द्रधनुष
पलकों में इन्द्रधनुष
★★★★★

© Udbhrant Sharma

Others

1 Minutes   6.9K    5


Content Ranking

 

पलकों में इन्द्रधनुष तिर गऐ
बेमौसम सावन-घन घिर गऐ

क्षितिजों की बाँहों में
तैर गई साँवलिया प्यास
खंडित होकर सहसा
बिखर गऐ प्रणय के समास

पतझर के अनहोने अनजाने रंग
उमड़-घुमड़ साँसों पर फिर गऐ
बेमौसम सावन-घन घिर गऐ

फिसल गऐ प्राणों की
सतहों से रसभरे प्रभाव
बर्फ़ीले भावों में
आग लगी, जल उठे अलाव

जीवन-यापन के वे मृदुल सरल ढंग
टूट-टूट टहनी से गिर गऐ
बेमौसम सावन-घन घिर गऐ

पलकों में इन्द्रधनुष

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..