Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
पोस्टकार्ड
पोस्टकार्ड
★★★★★

© Udbhrant Sharma

Others

1 Minutes   6.9K    3


Content Ranking

 

मोबाईल
और इन्टरनेट के इस युग में भी
अपनी धीमी रफ़्तार के बावज़ूद
एक आम आदमी की तरह
अभी बचा है उसका अस्तित्व
और जब तक रहेगा
आम आदमी
और उसका दुःख
मौजूदा लोकतन्त्र की बहसों के बीच
वह रहेगा इसी तरह
महत्त्वपूर्ण।
अपने बजट भाषणों में
प्रतिवर्ष वित्तमन्त्री उसका करेंगे
ख़ास ज़िक्र,
उसकी मूल्य-वृद्धि करते हुऐ
सरकारें काँपेंगी
और अगर कभी
पाँच-सात सालों में
ऐसी नौबत आने को हुई
तो मचेगा हड़कम्प
विरोधी दलों को
मिलेगा एक मुद्दा!
मगर उसे
इस्तेमाल करनेवाला
एक साधारण जन
लुटा-पिटा करेगा महसूस
नगरों,
महानगरों में काम करनेवाले
करोड़ों जनों का
अपनी जड़ों की सुधि लेना
और भी होगा कठिन
पिछले पचपन बरसों में
पोस्टकार्ड की क़ीमत
पाँच से पचास पैसे तक
जब-जब बढ़ी है,
तब-तब
अनगिनत बूढ़ी आँखों में तैरतीं
जवान कामगर उम्मीदें
कुछ और दूरी पर
खिसक गई हैं-
जैसे आज़ाद भारत में
खिसकती जाती है आज़ादी
हर वर्ष
इंच-दर-इंच
इंटरनेट की दुनिया में
पोस्टकार्ड की उपस्थिति
एक गरीब और शोषित
पीड़ित और उपेक्षित
निरन्तर हाशिऐ पर धकेले जानेवाले
आम आदमी के द्वारा
अस्तित्व की रक्षा के लिऐ
किया जानेवाला
शंखनाद है!

अनिवार्य तत्व जल
क्षीर की श्रेणी में अवतरित
बिसूरती अतीत को
दुःख और शर्म से
सिकुड़ती
शिखंडी सभ्यता से
क्षिप्र शरों से लहूलुहान
भीष्म-जननी
क्या प्रतीक्षारत है
सूर्य के उत्तरायण में
आने की बाट जोहते?
क्या बिगुल बज रहा
मनुष्यता के अन्त का?

 

पोस्टकार्ड

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..