Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
उम्मीदों के पुल मत तोडो
उम्मीदों के पुल मत तोडो
★★★★★

© Anshul Jain

Others

1 Minutes   6.9K    6


Content Ranking

उम्मीदों के पुल मत तोडो
आशा से आकाश टिका है
अहसासों का नया सबेरा आज नही तो कल बिखरेगा
अधरों की प्यासी धरती पर मधुरित गंगाजल बिखरेगा
छोटे से जीवन में महको बनकर अपनेपन की भाषा
हर अनुभव है यहाँ गोपिका, बोलो मनमोहन की भाषा
तंत्र मंत्र का कब सफल हुआ है 
मन की निर्मलता के आगे 
सफल तपस्या होगी तब,जब मन मे नेह धवल बिखरेगा 
अधरों की प्यासी धरती पर मधुरित गंगाजल बिखरेगा
कर्म कलंकित मत होने दो, धीरज धारण करो हृदय पर 
खुद को राम समझकर नज़रें करो स्यमं के देवालय पर 
गिनती की सासें मिलती हैं 
है परिणाम कर्म पर निर्भर 
इन साँसों को यदि विवेक से जियें तो पुण्य प्रवल बिखरेगा 
अधरों की प्यासी धरती पर मधुरित गंगाजल बिखरेगा
भाषा के अपने प्रयोग हैं, भावों की अभिव्यक्ति अलग है 
खुद की कस्तूरी खुद में पर जंगल जंगल भटका मृग है 
अर्घ्य आरती जता न पाते 
कैसे भावुकता है मन में 
ईश्वर तो कहता है खुद में डूब वहीं सन्दल बिखरेगा
अधरों की प्यासी धरती पर मधुरित गंगाजल बिखरेगा

 

pyas ahsaas

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..