Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
सामित है वो !
सामित है वो !
★★★★★

© Pooja Ratnakar

Abstract

1 Minutes   194    3


Content Ranking

होते होंगे फ़रिश्ते

हर गली चौराहे पर ,

पर आज हमने नय्यर को देखा

एक छोटे से आशियाने में ।

फलों से लदे तरु कभी तनते नहीं ,

खामियों से भरा इंसान

कभी झुकते नहीं।

एक बार दिल से झुक कर

तो देख ऐ रतन !

खुदा खूद तेरी रजा़ पूछेगा

ना जाने मेरी जिंदगी की

जुस्तजू क्या है ?

आज रंगों से भरा आसमां

तो कल रेगिस्तान की धूल!!

ज़िंदगी आशियाना रज़ा

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..