Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ओ मेरे सांवरे...’
ओ मेरे सांवरे...’
★★★★★

© Indu Singh

Others

1 Minutes   6.4K    3


Content Ranking

उस महासमर में

जब अपने ही खड़े थे

अपनों के सामने

तुम ही तो आये थे

तब बनकर कुशल सारथी

धर्मरथ को थामने ।

विश्वरूप धरकर

धरा से आकाश तक लगे

ब्रम्हांड को नापने

टूट गये सारे भ्रम

ऐसा दिया गीता का ज्ञान

अंतर्मन में झाँकने ।

दर्शन अभिलाषी

तकते ही रह गये नयन

ऐसे हुये बावरे

होती न विजय

लहराता न धर्म का परचम

तुम बिन सांवरे ।।

tum apno saamno

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..