Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
सख्त जरुरत
सख्त जरुरत
★★★★★

© Raman Sharma

Others

2 Minutes   1.1K    0


Content Ranking

आज मेरी जिन्दगी को तेरी सख्त जरुरत है --
और तुम अनजान बनकर मुझे गैर समझती है,

एक दिन आऊँगा मैं, जरुर ।


बहुत दूर आ गया हूँ  ,
अकेला हूँ ,
जिन्दगी से हैरान हूँ ,
क्या करूँ क्या करूँ ?
पा तो लिया सब कुछ ,
फिर भी उलझन में हूँ ,
थक गया करके काम ,
चाहता हूँ कुछ आराम ,
दिन बहुत बीत गये,
अपनों से मिले हुए  ।
एहसास होता है कुछ कुछ ,
अपनों से जो दूर हूँ जब I
वो भी जमाना था ,
माँ रोटियाँ खिलाती थी ,
पापा पूरे करते थे खर्चे I
आज अपनों से ही दूर हूँ ।
क्या करूँ क्या करूँ ?
आना तो चाहता हूँ ,
पर छुट्टियां तो मिलें ,
इंतजार करता रहता हूँ ,

कब वह दिन आये I
यार करते हैं फोन मुझे  ,
आओ कभी, आओ अभी!
कामों में व्यस्त, सोचता  हूँ ,
आऊँगा मैं जरुर !
 

कैसे बता दूँ मैं तूझे मैं अपनी दर्द ए कहानी- -
जान बूझकर जो तुम मुझसे वेवफाई कर रही है ,
*
क्यों जूदा होने का फैसला कर लिया है तुमने--
फिर से दिल पर जख्म के निशान नज़र आ रहे हैं ,
*
प्रिय कैसे कम करुं मैं इस तड़प को --
जो दूरीयों से हर पल मिलती रहती है ,
*
कैसे भुलाऊँ मैं उन साजिश बाले लम्हों को--
जो तुमने आँखों से जाम जो पिलाया है ,
*
मैं भी अब तुमसे नफरत करने लगा हूँ --
जब से शराब पीना शुरू कर दी है --
*
अगर हुआ कभी एहसास तुझे मेरे प्यार का --
तो जरुर कहना तुझे शराब की नही मेरी जरुरत है ,

------------ रमन शर्मा ।

raman sharma

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..