Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बहन तुम मुझे इस बार राखी न बांधना
बहन तुम मुझे इस बार राखी न बांधना
★★★★★

© Dharmendra Rajmangal

Comedy Inspirational

2 Minutes   13.5K    3


Content Ranking

जन्म लेकर साथ तुम मेरे पली थी

भेदभावों के समन्दर में वहीं थीं

में पला नाजों से लेकिन तुम नहीं

कौन कहता पीर मन की अनकहीं

पूज्या कहकर लड़कियों की कैसी साधना

बहन तुम मुझे इस बार राखी न बांधना|1|

 

मैं पढ़ा, लेकिन रही तुम अनपढ़ी

मैं खड़ा आगे रही तुम पीछे बढ़ी

मैंने जो भी माँगा वो मुझे मिला

लेकिन तुमसे ये कैसा सिला

चंचला तुम आगे से लड़की होना न मांगना

बहन तुम मुझे इस बार राखी न बांधना |2|

 

मैंने महसूस की थी तुम्हारी मजबूरी

हर ख्वाहिश रहती थी तुम्हारी अधूरी

मेरी शादी में जितना लेना चाहते थे

तुम्हारी शादी में उतना देना चाहते थे

लेकिन मेरी तरह तुम्हारी मर्जी क्यों न पूछना

बहन तुम मुझे इस बार राखी न बांधना |3|

 

मुझे घर में रखा तुम्हें बाहर भेज दिया

तुम पराई हो गयीं मुझे दिल में सहेज दिया

जिस घर को तुमने सजाया था वो मेरा है

जो किसी और ने सजाया था वो तेरा है

खुद अपने घर को छोड़कर ये कैसा रहना

बहन तुम मुझे इस बार राखी न बांधना |4|

 

तुम लड़की होकर इतना कैसे सहती हो

अपनों को छोड़कर दूसरों में कैसे रहती हो

में लड़का होकर भी घर से अलग नही रह सकता

जो तुमने सहा उसका दसवां भी नही सह सकता

ये दर्दों का सिलसिला कब तक है सहना

बहन तुम मुझे इस बार राखी न बांधना |5|

 

मेरी भी गलती थी लेकिन क्या करता

तुम्हारे लड़की होने का खामियाजा कैसे भरता

मैं कुछ न कर सका मुझे इसका अफ़सोस है

मैं लड़का हूँ इसमें मेरा भी दोष है

हो सके तो मुझे माफ़ करते रहना  

बहन तुम मुझे इस बार राखी न बांधना |6|

#girlchild #gender discrimination #byDharmendraRajmangal

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..