Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
ना-पाक पड़ोसी
ना-पाक पड़ोसी
★★★★★

© Vivek Pandey

Inspirational

1 Minutes   6.4K    2


Content Ranking

इस मुल्क पड़ोसी को हमने
सब कुछ तो करते देखा है,
प्रेम के रंग में भंग मिलाते
हम सबने इसको देखा है,

राग भरी महफ़िल में इसको
शंख बजाते देखा है,
आधी भरी गगरी की तरह
पूरा छलकते देखा है,

सरहद पे खड़े मानवता का
गला काटते देखा है,
हश्र बुरा होगा इसका
सबको कहते-सुनते देखा है,
बड़ी इमारत को हमने तो
तत्क्षण ही गिरते देखा है,

गुबरैले की आँखों में 
गन्ध को सनते देखा है,
इस मुल्क पड़ोसी को हमने
सब कुछ तो करते देखा है,

श्वान की जिव्हा सा लालच
इसकी आँखों में देखा है,
कर्म बुरा है- सोच बुरी है
अंजाम से डरते देखा है

हर प्रयास को इसके, मैंने
असफल तो होते देखा है
अपने ही घर में इसके
तूफ़ान मचलते देखा है,

इस मुल्क पड़ोसी को हमने
सब कुछ तो करते देखा है...

पाकिस्तान श्वान

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..