Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
कस्बे की लड़की
कस्बे की लड़की
★★★★★

© Arti Tiwari

Inspirational Abstract

1 Minutes   7.0K    7


Content Ranking

सूरज के जागने से पहले

जग जाती है

चिड़ियों के साथ

गाती है

अधखुले पंखों वाले गीत

चूजों की सुगबुगाहट से

उल्लास से महकती 

कलियों की मुस्कान

सजा रक्तिम अधरों पे

सजती-संवरती है।

...

हवा सी सरसराती है

घर में उधर-उधर

उगती हैं सूक्ष्म-तरंगे

मचलता है

ज्वार-भाटा

.....पर

उछालें मारती ध्वनियों का विरोध कर

धार लेती है

शान्त नदी सी नीरवता

.....

पढ़-लिखके बेकार और

ब्याहे जाने की उमर तक

अनब्याही रही आने का अफ़सोस

नही जताती अपनी उदासी से

अनपेक्षित कार्यकलापों को

नहीं देती अंजाम

....

माता-पिता,भाई-बहन के दुखों से

कम करके आंकती है

अपने रिस रहे दुःख

होने नहीं देती

माहौल को संज़ीदा

अपने अश्रुओं के काढ़े को

आँखों के कटोरे से

उड़ेल देती है

हलक में

और आउटपुट में निकालती है

...खिलखिलाहट...

........

बिखरे बाल,रूखा चेहरा

लाल आँखें-गुस्साई आवाज़

निशानियाँ हैं

बेकार लड़कों की

.......

लड़की का अपना नजरिया है

बाँट के दर्द/अपनों के

अधपकी खुशियों के

पक जाने के इंतेज़ार तक

उलझाये रखती है/खुद को

हर उस काम में

जिससे

किसी को रंज़ न हो

ऐसे जताती है/अपना विरोध

समाज/व्यवस्था और बेकारी से

कस्बे की लड़की

लड़की क़स्बा सपना

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..