Sonam Kewat

Others


Sonam Kewat

Others


मैं वो हूँ

मैं वो हूँ

1 min 229 1 min 229

जानकर भी कोई मुझे जान नहींं सकता

मैं वो हूँ जो हर कोई बन नहींं सकता

इरादे मजबूत है ऐसे जो टूट नहींं सकते

सपने पलकों पर जो पीछे छूट नहींं सकते

तुम तोड़ोगे पर मैं खुद ही जुड़ती जाऊंगी

मोहताज नहीं हम वक्त सबका आता है

चुप है हम क्योंकि वो खुद सब बताता है। 

चाल चलते हुए कुछ अपनों को देखा है

रंग बदलना भी मैनें उनसे ही सीखा है

निभा लो तुम दुश्मनी मौका अच्छा है

जीत बताएगी कौन कितना सच्चा है

दोस्तों के दिखावें अब ताने कसते है

रोते है मन में पर सामने खूब हँसते है। 

तुम गिरा लो पर हम उड़ना भी जानते है

इस होनी को हम इम्तिहान मानते है

ये दर्द और तकलीफ मेरे ही साथी है

कुछ घावों का भरना अब भी बाकी है

ठान लो तुम और हमने खाई कसम यही

मैं वो हूँ जिसे तोड़ने का तुम में दम नहींं


Rate this content
Originality
Flow
Language
Cover Design