Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
किरनों सी आज़ादी
किरनों सी आज़ादी
★★★★★

© Ashna Choudhary

Others Inspirational

1 Minutes   13.3K    3


Content Ranking

सूरज जब पूरब से उगे,
सोई आशाओं को आज़ादी दे
पेड़ों की, पत्तों की छाया
हरियाली ने दिन सजाया|

बहती नदी की है यह धारा,
जिसने सपनों का पर फैलाया
ज्यों सागर की नीली गहराई,
उतनी लहरों की तनहाई|

उड़ जाते पंछी पर फैलाए
आसमान के हद के साये
चाँद-तारों तक पहुँचने की चाह है
आज़ादी की यही बरखा है|

Sun Freedom Imagination Sun rays Dreams Imagination

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..