Bijjal Maru

Abstract


Bijjal Maru

Abstract


सिर्फ़ एक पल

सिर्फ़ एक पल

1 min 169 1 min 169

सिर्फ़  एक  पल  की  दूरी  में,

ख़ुशी,  गम  में  बदल  सकती  है,

समय  तो  है  ही  परिंदा,

जिसका  कोई  घोंसला नहीं  है।


 ना  देख  तू  आगे- पीछे, 

ज़िंदगी  हर  पल,  

सिर्फ़  एक  पल  की है !


थम  गयी  अगर, तो  मौत  है,

ज़िंदा  तो  माँझी  में  भी  नहीं  है !

क्यूँ  खवाबों  का  पहरेदार  बना  है ?

ज़िंदा  तो  बेहोशी  में  भी  नहीं  है !


Rate this content
Originality
Flow
Language
Cover Design