Kaushal Upreti

Others


Kaushal Upreti

Others


कुछ पल

कुछ पल

1 min 13.9K 1 min 13.9K

कुछ पल जो मिटाऐ नहीं जाते, भुलाऐ नहीं जाते, गँवाऐ नहीं जाते

उन पलों को याद करते हुऐ, ज़िन्दगी को याद करते हुऐ  ,

हम भी हँसते हैं रोते है, उन यादों के सायों मे समय खोते हैं

पर फिर भी न जाने क्यों लगता है, कि वे पल अब लौट नहीं सकते ,

पल-पल उन पलों की याद में सोचते हुऐ, ज़िंदगी के अँधेरों में घिर जाते हैं ,

मौत को भी,  अब कुछ अधिक ही करीब पाते हैं

इससे आगे कहने को क्या बचता है ,इस तन्हा सफ़र मे यूँ हीं चले जाते हैं.........

 

 

 


Rate this content
Originality
Flow
Language
Cover Design