Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बारिश
बारिश
★★★★★

© Anupama Gupta

Others

1 Minutes   6.7K    4


Content Ranking

नहीं, बिल्कुल नहीं ।
मुझे बिल्कुल भी नहीं याद 
आषाढ़ का कोई एक दिन
या सावन भादों की कोई रात ।

मुझे कोई विशेष दिन 
कोई विशेष रात
बिल्कुल याद नहीं है !
याद है तो
बस इतना 
कि ऐसी ही 
किसी एक बरसात में
मिले थे तुम।

और 
तब से आज तक
वर्षा  की हर बूँद में 
तुम साथ रहे हो ! 
मैंने किसी बारिश पर
कोई कविता नहीं लिखी ।
बस हर बूँद बूँद
महसूस किया है तुम्हें...

 

barish

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..