Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
बारिश
बारिश
★★★★★

© Sudhir Datta

Inspirational

1 Minutes   6.8K    3


Content Ranking

 

रात भर क्यों सताता बारीश में !
कोई क्यों याद आता बारीश में !

दिल की हर नस मे बस गया तो फिर,
आंख से क्यूँ वो टपकता बारीश में !

जिसको भीगो दीया है आंसु ने,
अब वो क्यूँ खोले छाता बारीश में !

हर तरफ है उदासी का दलदल,
घर से कैसे निकलता बारीश में !

जलती है हरेक बूंद से यादे,
एक धुंआसा उठता बारीश में !

हरेक खिड़की पर लग गए परदे,
किससे मै दिल लगाता बारीश में !

खत मिले उनका बहुत दिनों के बाद,
और मै पढ़ न पाता बारीश में !

अब तो खुदसे बाते करो सुधीर,
कोई आता न जाता बारीश में !

 

बरसात का मौसम अकेलापन

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..