Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मुझको है बेटी प्यारी
मुझको है बेटी प्यारी
★★★★★

© Sharad Tailang

Others

2 Minutes   13.3K    3


Content Ranking

गीत : मुझको है बेटी प्यारी

 

सबसे बढ़कर दुनिया मेँ मुझको है बेटी प्यारी,

अब तो है वो मेरे पूरे घर की राज दुलारी ॥

 

जन्म हुआ जब उसका सबने अपना मुँह बिचकाया

जाने क्योँ मेरे घर मेँ इक मातम सा था छाया,

लेकिन जब सबके सम्मुख गोदी मेँ उसको लाये,

उसका सुन्दर रूप देखकर सबका मन भर आया ।

सरगम सी लगती थी सबको उसकी हर किलकारी ॥

 

वो मयूर के पंखोँ का एहसास दिला जाती थी,

फूलोँ की पंखुड़ियोँ का आभास करा जाती थी

उसके नन्हे अंगोँ को जब जब भी सहलाते थे

उसके मुख पर चन्द्र किरण सी आभा छा जाती थी ।

फूली नहीँ समाती थी तब उसकी भी महतारी ॥

  

जैसे तितली उपवन मेँ हर फूलोँ पर मंडराये

इक ताज़े गुलाब की ख़ुशबू जैसे घर महकाये

वैसे उसका आना ख़ुशियोँ की सौगातें लाया

दिन भर उससे बतियाने को सबका जी ललचाये ।

आतुर रहते थे सब उसको लेने बारी बारी ॥

 

लेकिन जब बेटी डोली चढ़ अपने पी घर जाये

बचपन जिन हाथोँ मेँ बीता पल मेँ हुए पराये,

सभी पराया धन कहकर उसको आभास दिलाते

चन्द दिनोँ की खातिर ही वह बाबुल के घर आये ।

कब बदलेगी चलती आई है जो रीत हमारी ॥

 

वर्षोँ नाज़ुक कली जानकर जिसको रखा सहेज

उस अमूल्य धन को पाकर भी माँगे लोग दहेज,

ऐसे दुष्ट दरिन्दोँ को हम कैसे मानव मानेँ

कभी जलाते, कभी सताते, वापस देते भेज ।

कहता है इतिहास सदा दुख सहती आई नारी ॥

 

बेटा हो या हो बेटी सब हैँ ईश्वर का वरदान

मगर न जाने क्योँ रहते हैँ हम इससे अनजान,

सबको है अधिकार जगत मेँ समता से जीने का

बेटी के प्रति भेद जताने वाले हैँ नादान ।

अब तो कई क्षेत्र मेँ हैँ बेटोँ से बेटी भारी ॥

उसका कर्ज़ चुका ना पायेगी ये दुनिया सारी ॥                                    0 शरद तैलँग

बेटी पैदा घर मातम परिवर्तन

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..