Quotes New

Audio

Forum

Read

Contests


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
पसरता अँधेरा
पसरता अँधेरा
★★★★★

© Arpan Kumar

Others Comedy

2 Minutes   13.9K    3


Content Ranking

बाहर से निरंतर खदेड़े जा रहे अंधेरे ने

अपनी चादर फैलायी है हमारे अंदर

ईर्ष्या, प्रतिशोध और सत्ता मद की

आग में जलते-बुझते लोगों ने

अपने आस-पास

एक दमघोंटू अँधेरा कायम  कर रखा है

जहाँ एक-दूसरे को मात देने की कोशिश में

हर खिलाड़ी अपनी-अपनी बिसात बिछाए

किसी औघड़ सा  बुदबुदाता फिर रहा है अहर्निश

तिकड़म और भ्रष्टाचार से हासिल की गई

बेशुमार संपत्ति की ढेर पर धुत्त पड़ा उबासी ले रहा है

तो कोई उसकी चटुकारिता

इस हद तक कर रहा है कि ज़रूरत पड़ने पर

उसके गुनाहों को भी अपने सिर लिए जा रहा है

किसी और के किए अपराध की सजा

कोई और भोग रहा है फिर चाहे इसके पीछे

उसका कभी कृतज्ञ हुआ होना हो या

फिर आतंकित होना 

जैसी करनी वैसी भरनी’ जैसी कहावतों ने

अपने अर्थ बदल लिए हैं या बदलते वक्त में

उसकी प्रासंगिकता खत्म हो चुकी है

अब पूँजीपति अपराध स्वयं करता है

और अगर कानून के हाथों किसी को सजा देना

आवश्यक हो जाता है

तो उसके लिए एक गुनाहगार की आउटसोर्सिंग कर ली जाती है

अँधेरा ही पुरसुकून शांति देता है उन्हें

अँधेरा ही रोशनी है उनके लिए

क्योंकि रोशनी को प्रोसेस करके

उनके पास आने दिया जाता है

एक ताकतवर आदमी की पाशविकता

कुछ ऐसी है कि उसे सही-ग़लत अपने

कारनामों को अंज़ाम देने के लिए

अँधेरे की ओट चाहिए होती है

वह अपनी मनोदशाओं के बीच

कुछ ऐसा घिरा है कि

उजाला उसके लिए बेमानी हो गया है

और वह प्रकृति के चमकते आईने के आगे

खंडित और पहचाने जाने से बचना चाहता है  

आज के समय में

सफेदपोश ऐसे मनोरोगियों का

निरंतर बढ़ता आत्मविश्वास

और उजाले की क्रमशः घटती उनकी जरूरत

डराती है हमें

पसरता अँधेरा

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..