Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
सर्दी की वो धूप..
सर्दी की वो धूप..
★★★★★

© Nidhi Thawal

Abstract

2 Minutes   13.7K    14


Content Ranking

जब जब इन झरोंखों से ठंडी हवा मुझे जगाती है
मुझे अपना बचपन और वो सर्दी की धूप याद आती है

वो दिन जब छतों से छतें मिला करती थी
दरी से दरी जोड़कर एक बड़ी बैठक बना करती थी

मूंगफली में बुनते थे किलो के हिसाब
उन्ही के छिलको से बनती गुड़िया लाजवाब

गिलहरी को पकड़ने के थे हज़ारों पैंतरे
पुरानी चादरों से भरे गुनगुने बिस्तरे

तन पर लद जाते लाखों कपड़े
हम भागें और माँ हमें पकड़े

अपनो का साथ ले जाता था दुखों को बहाके
हवाओं में गूंजते बुआ और चाची के ठहाके

स्टापू और गिट्टी नहीं थे कंकर पत्थर
माँ की साड़ी थी और था हमारा 'घर-घर'

बूढ़ी दादी के पल्लू से मिश्री चुराना
सोती नानी को चुपके से ढपक के जगाना

पापा का मनपसंद था गाजर का हलवा
हफ़्तों तक चलता हलवे का सिलसिला

सरसों का साग और मीठा मालपुआ
गाहे बगाहे पेट बन जाता था कुआँ

गिरता पारा और उठती उमंगें
कैसे भूलूँ वो सक्रान्त की पतंगें

लंबी लंबी रातों में  आनंद भरी झपकी
अंगीठी की गर्मी और पापा की थपकी

मोज़ो में बुना मेरी नानी का प्यार
छोटी पड़ जाती जो मुझ पर हर बार

माँ की पुरानी शॉल की वो प्यारी गर्मी
पड़ोस की चाची की बातों की वो नरमी

रिश्तों की नर्मी जब थी इस गर्मी से मिलती
मिलने का बहाना ये सर्दी की धूप ही थी बनती

अब ना जाने ऐसा क्या अजब है
ये सर्दी उस सर्दी से कुछ अलग है

रिश्तों की तपन में थोड़ी सी कमी है
जुबां पे सख्ती और धूप में नमी है

दरी के कोने अब मिलते नहीं
कमरों में कैद हैं बैठकें.. अब लोग मिलते नहीं

ऊंची इमारतों ने घरो की जगह जो ली है
धूप क्या अब तो छतें ग़ायब हुई हैं

बदलते रिश्ते हैं और बदल रहें है रुप
और सर्द है सर्दी, न रही सर्दी की वो धूप

मूंगफली बचपन सर्दी

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..