Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
मुलाकात - ए - बरसात
मुलाकात - ए - बरसात
★★★★★

© ✍ कुलदीप पटेल के•डी

Drama Romance

1 Minutes   1.3K    4


Content Ranking

बादलों की तेज़ गड़गड़ाहट भरी आवाज़

दे रही खुले आसमाँँ के नीचे आने का आगाज़

बारिश की टपकती चंद बूंदे

भला कौन रहेगा ऐसे में आंखे मूंदे

ऊपर से तपती देह को

छूकर जाने वाली हवाएं

इस तेज़ गर्मी की गर्म के लिए

जैसे मांगी थी किसी ने दुआएंं

रोक पायेगा ऐसे में भला कैसे कोई खुद को

भीग जाने दो आज जिस्म

कुछ ठंडक पहुँँच जाए रूह को


इत्तेफाक तो देखो बिन मौसम - ए - बारिश की

समझा नही हमने लगता है कोई साज़िश की

महबूब से मुलाकात करवाई भी कैसे

मिलते हो वर्षो बाद दो अनजान जैसे

उनके आंखे क्या पड़ी हम पर हम तो चूर हो गए

चाहा देखना हमने भी की पल भर में वो गुरूर हो गए

इन बेईमान आंखों को समझाये कैसे

हर पल शराफत भरी रहती है जैसे

बड़ी कसमकशिस थी उनके आंखों में

देखा जब भी पलटकर

खुद को पाया निगाहों में

फैला देते हाथ तो भर लेते बाहों में

समझे भी तो उसे हम अब क्या ?

चलना सीखा रहे हों जैसे राहो में,


बारिश की बूदों संग थे अश्क भी समाये

भला इतनी भीड़ में कौन समझ पाए

चाहा नही रोना भी खुद से उस पल

पर बहते अश्को को कहाँँ रोक पाए


चन्द लम्हो की मुलाकात और वर्षो की जुदाई

बात हुई नही देखते - देखते बस आंख भर आई

देखा हमने भी उनकी आंखों में कुछ इस कदर

मिलने के बर्षो बाद भी जैसे कर रहे हो खबर

Love Rain Lover

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..