Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
इन कागज़ के पन्नों पर
इन कागज़ के पन्नों पर
★★★★★

© Rewa Tibrewal

Romance

1 Minutes   6.7K    5


Content Ranking

आज कलम उठाया

तो मन हुआ की

जितना प्यार दिल

में भरा है

उतार दूं सारा

इस कागज़ पर,

ताकि फिर न

प्यार पाने की

इच्छा हो 

न खोने का गम ,

न दुरी का एहसास हो

न सांसो को 

सांसो की आस हो ,

न याद कर

आंखें नम हो

न दिल मे

खालीपन हो ,

न बाँहों मे

सिमटने की चाह हो

न धड़कनों को

धड़कनों से राह हो ,

बस इन कागज़

के पन्नों पर

बिखरे मेरे

आखरी चाह हो 

आखरी आह हो....

आंखें एहसास आह

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..