Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
शीर्षक - कपिल शर्मा
शीर्षक - कपिल शर्मा
★★★★★

© Negi India

Others Inspirational Comedy

1 Minutes   7.1K    5


Content Ranking

सैलाब-ए-मंज़र तब भी, आज भी
तू आंसुओं का रुकना तो न बदल सका ए दोस्त,
फरिश्ता-ए-ख़ुशी तूने कारण जरूर बदल दिये।
छोटों को प्यार बड़ों को करता प्रणाम,
फरिश्ता तू ख़ुशी का, तुझे शत-शत प्रणाम।

तिलिस्म मायानगरी का सब हैरान,परेशान,
धोखेबाजी, जालसाजी में जकड़ा इंसान।
कुछ बदला हो या ना बदला,
ग़मों की महफ़िलों में चेहरे बदल गये,
सैलाब-ए-मंजर, बस कारण बदल गये।

 

वास्तविक जीवन अन्य

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..